एक्टर शशांक सिंह

02 Jul 2020
186
यह कहानी है एक मुस्कुराते चमकते स्टार अभिनेता शशांक सिंह की... जो आज इस दुनिया से गुम हो कर किसी और दुनिया में अपनी मुस्कराहट और चमक बिखेर रहे है...! शशांक सिंह का बचपन एक छोटे से गाँव में अपने परिवार के साथ बीता...शशांक सबसे ज्यादा करीब अपने माँ के थे... लेकिन अफ़सोस बचपन के दिनों में ही उनके माँ का देहांत हो गया...जिससे शशांक और उनका परिवार बहोत दुखी था...शशांक के परिवार में उनके पिता एक बहन थी... शशांक के पिता एक साधारण परिवार से थे और एक सरकारी दफ्तर में काम करते थे !, शशांक बचपन से ही बहोत प्रतिभावान और बेहद होशियार थे, वो पढाई लिखी में भी बहोत तेज थे...जिससे वो हमेशा अच्छे नम्बरों से पास होते...कुछ समय बाद ही शशांक के पिता का शहर में  ट्रांसफर हो गया...शशांक और उनका परिवार दिल्ली चला गया...और फिर वही से शशांक ने अपने आगे की पढाई की... शशांक इतने  टैलेंटेड थे की उन्होंने इंजीनियरिग टेस्ट के ग्यारह परीक्षाओ को पास कर सातवी रैंक लायी... और फिर शहर  के सबसे बड़े कालेज में मेकेनिकल इंजीनियरिग में एडमिशन लिया... इस उपलब्धि से शशांक और उनका परिवार बहोत खुश हुआ...! दिल्ली के कालेज में इंजीनियरिग करने के दौरान ही शशांक की रुचि डांस की तरफ बढ़ने लगी...और उन्होंने पढाई के साथ ही डांस सीखने का फैसला लिया...अब वो धीरे धीरे अपना ज्यादातर समय डांस और नाटक की तरफ गुजारने लगे...इसी दौरान जिस वजह से उनका कालेज में टेस्ट एग्जाम ख़राब होने लगा और उनके नंबर कम आने लगे...! जिसके बाद उनके पिता उन पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए बोले पिता – शशांक आखिर कब तक ऐसा चलता रहेगा... तुम इतने होनहार स्टूडेंट होने के बावजूद आज  एग्जाम में तुम्हारे इतने कम नंबर ये बिलकुल भी ठीक नही... तुम इंजीनियरिंग को सीरियसली लो और अपनी पढाई पूरी करो...! शशांक के काफी कोशिश करने के बाद भी पढाई और डांस एक साथ अच्छे से कर पाना उनके लिए मुश्किल हो रहा था...अब उनका पूरा रुझान डांस और एक्टिंग की तरफ लग चूका था... इसलिए शशांक ने इंजीनियरिंग छोड़ने का फैसला किया और इंजीनियरिंग के तीसरे साल में ही उन्हीने कालेज ड्राप आउट कर दिया...! शशांक के इस फैसले से उनके पिता थोड़े नाराज थे... लेकिन वो समझ चुके थे की उनका बेटा कुछ और बहोत बड़ा करने वाला है जो वो पूरे म्हणत और लगन के साथ करेगा...! और फिर क्या था शशांक ने शहर से मुंबई का रुख किया... और वो फिर सपनो की नगरी मुंबई पहुच गए...! जहा आगे का सफ़र काटो भरा था शुरूआती में शशांक को कई मुशिबतो और मुश्किलों का सामना करना पड़ा...काम के तलाश में काफी दिनों भटकना और ऑफिस के चक्कर लगा लेकिन लेकिन कुछ हाँथ नहीं लगा... लेकिन वो निराश नहीं हुए बल्कि मुस्कुराते हुए अपनी सपने के तरफ आगे बड़े और मेहनत से... अपने खर्चे चलने के लिए शुरूआती दिनों में उन्होंने इंजीनियरिग के बच्चो को कोचिंग पढाई और फिर वो स्टेज शोज में बैकग्राउंड डांसर के रूप में काम करने लगे...कई साल तक ऐसे ही डांस करने के बाद फिर वो एक्टिंग और ठियेटर से जुड़े और वहा उन्होंने  एक्टिंग की कला को और भी गहराई से सीखा ! और काम की तलाश में हर जगह ऑडिशन देते...लेकिन इतना टैलेंट होने के बावजूद क्युकी वो इंडस्ट्री में एक आउटसाइडर  थे उनका कोई गॉडफादर नहीं था...उन्हें काम नहीं मिला...लेकिन उनकी मेहनत फिर रंग लाइ जब एक ठियेटर नाटक के दौरान एक डायरेक्टर ने उन्हें देखा और उन्हें अपने टीवी सीरियल में मौका दिया... उन सीरियल के बाद शशांक ने अपनी एक्टिंग से सब का दिल  जीत लिया और फिर एक के बाद एक टीवी सीरियल उन्हें मिलते गए और उनका करियर शिखर पर था...अब वो घर घर में छा चुके थे और सबके पसंदीदा कलाकार बन चुके थे ! और जल्द ही उन्हें फिल्मो में काम करने का मौका मिला... जिससे उन्होंने बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बनाई...हर कोई उनकी एक्टिंग से हैरान था और अपनी मेहनत से शशांक ने हर वो चीज हासिल की जिसका वो कभी कवाब देखते थे... वो और उनका सारा परिवार इस बात से बहोत खुश था...! लेकिन शायद इसके बाद ही इंडस्ट्री के कई बड़े लोग और स्टार, और प्रोडक्शन हाउस शशांक के टैलेंट और सक्सेज को देख घबरा गए उनके रातो की नींद उड़ गयी... की एक छोटे शहर का लड़का... इंडस्ट्री का चमकता सितारा कैसे बन गया... इसी डर के कारण उन्होंने शशांक के करियर को नीचे गिराने को कोशिश करने में लग गए...और हमेशा खुश रहने वाले शशांक पर धीरे धीरे दवाव बनाने लगे...उसके आने वाली कई फिल्मो से उसे निकाल दिया गया...और उसे ऐसा महसूस कराया गया की आगे उसका करियर अब ख़त्म होने वाला है...इंडस्ट्री के लोगो ने उसे इन्ग्नोर करना शुरू कर दिया... जिससे शशांक काफी परेशान और डिप्रेशन में रहने लगे... जब किसी ने उनका साथ नहीं दिया जब वो बिलकुल अकेले पड़ चुके थे...तब आखिर में शशांक ने ऐसी चमक धमक वाली नकली  दिखावे की दुनिया को छोड़...मजबूरन मौत को गले लगा लिया...और उन्होंने सुसाइड कर लिया...और एक टेलेंटेड मुस्कुराता हुआ चेहरा हमेशा के लिए दुनिया से अलविदा कह गया...! जिसके बाद उनका परिवार और उनके फैन्स बुरी तरह सदमे से टूट गए...! 
दोस्तों , हमेशा मुस्कुराता चेहरा दिल से  खुश हो न हो यह कह नहीं सकते ! मुस्कुराते चेहरे के पीछे कही गम छिपाये रहते है! हमे सिर्फ इन स्टार्स की जगमगाती दुनिया पता होती है पर असल में इसके पीछे कई काले राज़ छिपे होते है ! जो दुनिया के सामने शायद ही आते है ! कभी कभी टैलेंट होकर भी हमे पीछे हटना पड़ता है ! क्युकी इस काली दुनिया में सक्सेस होने के लिए हमेशा गॉडफादर की जरूरत होती है ! यही  काला सच है ! लेकिन हम सब ने मिलकर इसका विरोध करना चाहिए ! क्युकी शशांक जैसा टैलेंटेड कलाकार बहुत कम मिलते है ! हमे उनकी क़द्र करनी होगी ! और हमेशा मेहनत करने वाले कलाकार का हौसला बढ़ाना चाहिए ! क्युकी कला और कलाकार किसी का  मुहताज नहीं होता ! दोस्तों आप बताइये की शशांक की मौत को क्या कहेंगे ? खुदख़ुशी या मर्डर ?
Hindi
|
Entertainment

Comments